जे. ई. पी. सी. के बारे में

झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद् (जे.ई.पी.सी.) एक स्वायत्त निकाय है, जो सोसाइटी पंजीकरण अधिनियम, 1860 के अंतर्गत 12 अप्रैल, 2001 को पंजीकृत किया गया। इस परिषद् के अपने सेवा संबंधी और वित्तीय नियम हैं। यह राज्य कार्यान्वयन सोसाइटी (एस.आई.एस.) के रूप में प्राथमिक शिक्षा को सार्वभौम (यू.पी.ई.) बनाने के उद्देश्य से कार्य करती है, जिसे 1986 में अपनाई गई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एन.पी.ई.) के अंतर्गत वेटेज मिला और उसके अनुसार ही उसे 1992 में अपडेट किया गया। एन.पी.ई. शिक्षा के विकास और कार्य योजना के लिए एक ढाँचा उपलब्ध कराता है, जिसमें शिक्षा को संगठित, कार्यान्वित करने और उसके वित्त पोषण के लिए निश्चित जिम्मेदारियाँ दी जाती हैं। यही कारण है कि इसे बिना शर्त प्राथमिकता मिलती है। उसके बाद से ही यह परिषद् सर्वशिक्षा अभियान (एस.एस.ए.), कस्तूरबा गांधी विद्यालय (के.जी.बी.वी.), प्राथमिक स्तर पर लड़कियों के लिए राष्ट्रीय शिक्षा कार्यक्रम (एन.पी.ई.जी.ई.एल), संयुक्त राष्ट्र सहायता आदि जैसे अनेक कार्यक्रमों को निश्चित उद्देश्यों के साथ लागू करने में शामिल रहा है।