संपादकीय

169 views

प्रिय बच्चो, ‘पंख’ पत्रिका का नया अंक आपके हाथों में आ गया है। अब तो आप भी ‘पंख’ के कलेवर से परिचित हो गए होंगे।

सभी बच्चे नई कक्षाओं में आ गए होंगे। आप सभी बच्चों को नई कक्षाओं में पहुँचने पर हार्दिक बधाई। अब आपके पास नई पुस्तकें होंगी और नए शिक्षक भी। कुछ समय बाद आप इन सबके इसी तरह अभ्यस्त हो जाएँगे, जैसे कि आज ‘पंख’ के अभ्यस्त हो चले हैं।

आप देख ही रहे होंगे कि ‘पंख’ के पिटारे में आपके मनोरंजन के साथ ही ज्ञानवर्द्धन की भी पूरी सामग्री मौजूद रहती है। अब तो हम ‘कहानी रचो’ प्रतियोगिता के माध्यम से आप सभी बच्चों को भी इससे पूरी तरह जोड़ने का प्रयास कर रहे हैं। आप कहानी लिखेंगे तो आपके लेखन को बढ़ावा मिलेगा, आपके मन में नए विचार आएँगे और फिर उन विचारों से आप नवाचार की ओर प्रेरित होंगे। सीढि़याँ-दर-सीढि़याँ ही कार्य को विस्तार मिलता है और फिर सफलता।

‘पंख’ का फरवरी अंक झारखंड के माननीय मुख्यमंत्री के द्वारा एक भव्य समारोह में लोकार्पित किया गया।

इस अंक में भी हमने सभी बच्चों को ध्यान में रखते हुए पहेलियाँ, रोचक बातें, रंग भरो जैसे स्तंभ दिए हैं। पूरे वर्ष में से कुछ दिन ऐसे होते हैं, जिस दिन विशेष दिवस मनाए जाते हैं। अप्रैल के महीने में ‘विश्व स्वास्थ्य दिवस’, ‘विश्व पुस्तक दिवस’ एवं ‘विश्व पृथ्वी दिवस’ मनाया जाता है। यह क्यों और कब मनाया जाता है, इस बारे में आप इस अंक में पढ़ेंगे। आप सभी एलियन के बारे में बातें करते हैं न कि ये दूसरे ग्रह के प्राणी होते हैं। सोचो, यदि किसी दिन हम ही मंगल ग्रह पर बस जाएँ तो कैसा लगेगा? हाँ बच्चो, मंगल ग्रह पर जीवन के आसार हैं। आप पढि़एगा और इस बात को जानिएगा।

आप देख ही रहे हैं कि वातावरण में गरमी ने एकदम से दस्तक दे दी है। ऐसे समय में आप अपना ध्यान रखें और ‘पंख’ को पढ़ते रहें। इसमें पढ़ी गई जानकारी व मनोरंजन से आपको ‘पंख’ के द्वारा हवा के ‘पंख’ की-सी राहत मिलेगी।

अंत में, हमें पत्र लिखना न भूलिएगा। आपके पत्रों की हमें प्रतीक्षा रहेगी।

आप अपने सुझाव इ-मेल jepcranchi1@gmail.com पर भेज सकते हैं।

मुकेश कुमार (भा.प्र.से.)

राज्य परियोजना निदेशक, झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद्