संदेश : मान. श्री रघुवर दास

182 views

बेहद प्रसन्नता की बात है कि प्रदेश के छात्रों के लिए पत्रिका ‘पंख’ का प्रकाशन किया जा रहा है।

 

किसी भी राष्ट्र के बच्चे ही उसका भविष्य होते हैं। ऐसे में बालकों की नींव प्रारंभ से ही मजबूत होना अनिवार्य है। बचपन जीवन की स्वर्णिम अवस्था है। एक बच्चे को बड़ा करना कई मंजिलों वाली आसमान से बातें करती इमारत बनाने के समान है। इसलिए शुरुआती मंजिलें सीध में हों, यह बहुत जरूरी है। बच्चों को संस्कार के साँचे में ढालने के लिए बहुत जरूरी है कि उनके हाथों में ऐसी पत्रिकाएँ एवं पुस्तकें पहुँचें, जो रुचिकर व ज्ञानवर्द्धक हों और वे उन्हें अपनी ओर आकर्षित करें। ‘पंख’ ऐसी ही पत्रिका है। इसमें झारखण्ड की संस्कृति के साथ ही बच्चों में राष्ट्र-प्रेम की भावना जाग्रत् करने के लिए अनेक लेख व जानकारियाँ सरल भाषा में दी गई हैं।

 

बच्चे जब बचपन से ही कला, संस्कृति और परिवेश से जुड़ जाते हैं तो उनके हृदय में देश-प्रेम के साथ ही एक अच्छे और सच्चे नागरिक बनने के सभी गुण प्रस्फुटित होने लगते हैं। मुझे पूरा विश्वास है कि ‘पंख’ पत्रिका केवल झारखण्ड के विद्यार्थियों को ही नहीं, अपितु पूरे भारत के विद्यार्थियों को आसमान में उड़ने के लिए पंख प्रदान करेगी।

 

मैं इस पत्रिका से जुड़ी टीम को बधाई देता हूँ और पत्रिका के सफल प्रकाशन की कामना करता हूँ।

रघुवर दास
मुख्यमंत्री, झारखण्ड सरकार