मैं बंगलुरु हूँ

109 views

बच्चो! बंगलुरु भारत के राज्य कर्नाटक की राजधानी है। यह भारत गणराज्य का तीसरा सबसे बड़ा और पाँचवाँ सबसे बड़ा महानगरीय क्षेत्र है। एक अनुमान के अनुसार, बंगलुरु में आधे से अधिक लोग भारत के विभिन्न हिस्सों से आकर बस गए हैं, योंकि यहाँ पर उद्योग एवं प्रशिक्षण संस्थान और स्कूल उच्च कोटि के हैं। यहाँ पर पूरे साल मौसम सुहावना बना रहता है, इसलिए इसे भारत का ‘उद्यान नगर’ भी कहते हैं। विजयनगर साम्राज्य के सामंत केंपगौडा प्रथम ने इस क्षेत्र में पहले किले को बनाया था। इसे आज बंगलुरु की नींव कहा जाता है। समय के साथ-साथ यह क्षेत्र मराठों, अंग्रेजों और आखिर में मैसूर के राज्य का हिस्सा बन गया। बंगलुरु भारत के सूचना प्रौद्योगिकी निर्यातों का अग्रणी स्रोत है, इसलिए इसे ‘भारत की सिलिकॉन वैली’ भी कहा जाता है। भारत के प्रमुख तकनीकी संस्थान, जैसे इसरो, इन्फोसिस और विप्रो का मुयालय बंगलुरु में ही है। यहाँ पर बहुत से शैक्षिक और अनुसंधान संस्थान स्थित हैं। इन संस्थानों में भारतीय विज्ञान संस्थान, भारतीय प्रबंधन संस्थान बंगलुरु, राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान आदि। यही नहीं, यह क्षेत्र कन्नड़ फिल्म उद्योग का भी केंद्र है। यहाँ पर वैसे तो सभी त्योहार मिल-जुलकर मनाए जाते हैं, लेकिन दीवाली और दशहरा यहाँ की विशेष पहचान हैं। मैसूर के दशहरे से तो बच्चा-बच्चा परिचित है। अन्य उत्सवों में गणेश चतुर्थी, संक्रांति, ईद-उल-फितर, क्रिसमस आदि भी यहाँ पर धूमधाम से मनाए जाते हैं। बंगलुरु में उार भारतीय, दकनी, चीनी तथा पश्चिमी व्यंजन बहुत लोकप्रिय हैं। सन् 1990 के दशक में बहुत सी आर्ट गैलरी बंगलुरु में स्थापित हो गईं। इनमें नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट शामिल है। अंतरराष्ट्रीय कला महोत्सव दक्षिण भारत का ऐसा अकेला महोत्सव है, जो यहाँ सन् 2010 से चल रहा है। बंगलुरु ने देश को प्रतिभाशाली व्यतित्व दिए हैं। इनमें नारायण मूर्ति, किरण मजूमदार शॉ, अजीम प्रेमजी, राहुल द्रविड़, अनिल कुंबले, प्रकाश पादुकोण एवं गिरीश कर्नाड आदि प्रमुख हैं। बंगलुरु में कबुबन पार्क और विज्ञान संग्रहालय देखने योग्य हैं। इनके अतिरित गांधीजी के जीवन से संबंधित गांधी भवन, टीपू सुल्तान का सुमेर महल, बाँसगुड़ी तथा इस्कॉन मंदिर, लाल बाग, बंगलौर पैलेस, बनेरघाट अभयारण्य आदि स्थल दर्शनीय हैं।

आप बंगलुरु कब आ रहे हैं इन सब स्थलों पर घूमने के साथ ही ढेर सारी जानकारी प्राप्त करने के लिए? आइए न, बंगलुरु आपका बेसब्री से इंतजार कर रहा है।