तुलसीदास जयंती

95 views

तुलसीदास को आप सब जानते हो न। वही प्रसिद्ध कवि, जिन्होंने ‘रामचरितमानस’ की रचना की थी। तुलसीदास का जन्म उार प्रदेश में हुआ था। उनके पिता का नाम आत्माराम दुबे और माता का नाम हुलसी था। तुलसीदासजी को बचपन में अनेक कष्टों का सामना करना पड़ा था। उनका विवाह रत्नावली से हुआ था। वह रत्नावली से बहुत प्रेम करते थे। एक बार वह उनसे मायके मिलने के लिए रात में उफनती नदी को पार करके पहुँचे थे। यह देखकर रत्नावली उन्हें फटकारते हुए बोली थीं कि यदि इतना प्रेम तुम्हें राम नाम से होता तो तुम्हारा जीवन सँवर जाता। बस, उसी दिन से तुलसीदासजी की जीवन-दिशा बदल गई और उन्होंने स्वयं को पूरी तरह से प्रभु राम को समर्पित कर दिया।

पूरे भारत में गोस्वामी तुलसीदासजी की स्मृति में तुलसीदास जयंती मनाई जाती है। तुलसीदास जयंती श्रावण मास की सप्तमी के दिन मनाई जाती है। इस बार यह 30 जुलाई, 2017 को मनाई जाएगी। इस दिन जगह-जगह पर रामकथा होती है और गोस्वामी तुलसीदासजी को याद किया जाता है। जगह-जगह पर भोज का आयोजन होता है। गोस्वामी तुलसीदास ने रामभति के द्वारा न केवल अपना जीवन सफल बनाया, बल्कि अनेक लोगों को श्रीराम के आदर्शों पर चलने के लिए प्रेरित किया। तुलसीदासजी ‘रामचरितमानस’ लिखते समय अनेक लोगों को बताते थे कि राम का जीवन सुखी न होते हुए भी आदर्शपूर्ण था और ऐसा इसलिए था, योंकि श्रीराम संकट आने पर कभी घबराते नहीं थे, बल्कि एक हल्की सी मुस्कान के साथ उस संकट का धैर्यपूर्वक सामना करते थे। मनुष्यों को भी दु:ख और कष्ट में हार न मानते हुए धैर्यपूर्वक व शांति से हर मामले को सुलझाने के लिए तैयार रहना चाहिए। ऐसा करके ही मानव जीवन को सफल बनाया जा सकता है। तुलसीदासजी ने अनेक स्थानों पर घूमते हुए कृतियों की रचना की। उनकी मुय रचनाएँ हैं—रामचरितमानस, कवितावली, जानकीमंगल, विनयपत्रिका, गीतावली, हनुमान चालीसा, बरवै रामायण आदि। रामचरितमानस में तुलसीदासजी ने भगवान श्रीराम के चरित्र का अत्यंत मनोहारी एवं भतिपूर्ण चित्रण किया है। रामचरितमानस के बाद हनुमान चालीसा तुलसीदासजी की लोकप्रिय रचना है, जिसे घर-घर में पढ़ा जाता है।

बच्चो, भतिपरक रचनाओं की मुय विशेषता यह है कि इनको पढ़कर व्यति के अंदर सद्गुणों और आत्मविश्वास का विकास होता है तथा व्यति सन्मार्ग पर चलने लगता है। तुलसीदास जयंती पर आप भी अपने माता-पिता के साथ इस उत्सव में भाग लेना और तुलसीदासजी के बारे में लिखी गई बातें सबको बताना। इससे आप सभी के प्रिय बन जाएँगे।