झारखंड का राजकीय पशु हाथी

121 views

बच्चो, हाथी धरती पर रहनेवाला सबसे विशाल जानवर है। यह झारखंड का राजकीय पशु भी है। भारत में यह केवल काले रंग का होता है, परंतु कई देशों में यह सफेद रंग का भी होता है। इसकी खाल बहुत कठोर होती है। इसकी एक लंबी सूँड़, दो बड़े कान, दो चमकीले दाँत, दो छोटी-छोटी आँखें, एक छोटी पूँछ और चार पैर होते हैं। इसकी लंबाई 10 फीट तक हो सकती है। इसका जीवनकाल 100 वर्ष से भी अधिक होता है। हाथी एक बहुत उपयोगी जानवर है। यह बहुत समझदार एवं आज्ञाकारी होता है। इसको विभिन्न कार्यों हेतु प्रशिक्षित किया जा सकता है। इसकी सूँड़ काफी उपयोगी होती है। अपनी सूँड़ की मदद से हाथी खाता-पीता है और भारी सामान उठाता है।

जंगल में हाथी प्रायः झुंड में ही पाए जाते हैं। हाथी के पैर के तलवे को ‘तबक’ कहते हैं। हाथी की चाल आदमी से तेज होती है। यदि हाथी पीछे पड़ जाए तो उससे पीछा छुड़ाना कठिन हो जाता है।

प्राचीन काल में राजा हाथी पर सवार होकर युद्ध और शिकार के लिए जाते थे। भारत में आज भी उत्सवों में हाथी को शामिल किया जाता है। हाथी का दाँत भी बहुत काम आता है। उससे विभिन्न प्रकार के आभूषण और गृह-सज्जा के सामान बनाए जाते हैं।