झमाझम बारिश

72 views

प्राची को वर्षा का मौसम बहुत अच्छा लगता था। ग्यारह साल की प्राची अपनी मम्मी रीना से बोली, ‘‘मम्मा, बारिश कब आएगी? बारिश में पकौडे़ खाने का मजा ही कुछ और है।’’ आखिर प्राची की इच्छा पूरी हुई और झमाझम बारिश होने लगी। प्राची अपनी खिड़की से बारिश की बूँदों को देखती रही। बहुत तेज बारिश में रीना ने गरम-गरम प्याज और पनीर के पकौड़े व चाय परोसी तो प्राची रीना को गले लगाते हुए बोली, ‘‘मम्मा, आप दुनिया की सबसे अच्छी मम्मा हो।’’ कई दिनों तक लगातार बारिश होती रही। जैसे ही बारिश थोड़ी रुकी तो कीचड़ और पानी ने लोगों का जीवन मुश्किल कर दिया। एक दिन तो प्राची कीचड़ और पानी के कारण स्कूल बड़ी मुश्किल से जा पाई। स्कूल से जब वह घर पहुँची तो उसके कपड़ों और जूतों में कीचड़ थी। वह उन्हें बिना साफ  किए पूरे घर में घूमती रही। रीना ने उसे देखा तो डाँटते हुए बोली, ‘‘बेटा, आप इतनी बड़ी हो गई हो। बारिश में हर ओर गंदगी इसलिए होती है, क्योंकि हम लोग स्वच्छता और साफ-सफाई का ध्यान नहीं रखते। मैं तुम्हें सफाई के बारे में समझाती हूँ, पर तुम ध्यान से सुनती ही नहीं हो।’’ प्राची अपने कपड़े बदलकर खाना खाने बैठ गई। टेलीविजन पर समाचार आ रहे थे। समाचार में बताया गया कि कई दिनों तक लगातार बारिश के कारण वातावरण में मच्छर हो गए हैं, इसलिए कई लोग डेंगू बुखार से पीडि़त हैं। सभी लोग इस मौसम में अपना विशेष ध्यान रखें। यह सुनकर प्राची बोली, ‘‘मम्मी, डेंगू बुखार क्या बहुत खतरनाक होता है और यह क्या मच्छरों के कारण ही होता है?’’

रीना बोली, ‘‘हाँ बेटा, डेंगू बुखार मच्छर के कारण ही होता है। डेंगू दुनिया भर में पाया जाने वाला एक खतरनाक वायरल रोग है और यह संक्रमित मादा एडीज मच्छर के काटने से फैलता है। सबसे बड़ी बात यह है कि यह मच्छर दिन में काटता है, इसलिए बारिश के मौसम में पूरी बाँह के कपड़े पहनने चाहिए और अपने शरीर को ढककर रखना चाहिए, जिससे ये मच्छर काट न पाएँ।’’

यह सुनकर प्राची बोली, ‘‘मम्मा, सॉरी, आगे से मैं साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखूँगी और घर के साथ-साथ अपने स्कूल व वातावरण को भी साफ-सुथरा रखने में पूरा योगदान दूँगी।’’ प्राची की बात पर रीना मुस्कुराते हुए बोली, ‘‘बेटा, तब तो मैं तुम्हारे लिए बारिश के मौसम में नए-नए पकवान बनाऊँगी और तुम्हें खिलाऊँगी।’’ प्राची बोली, ‘‘मम्मा, फिर तो बारिश का आनंद दोगुना हो जाएगा। जब हम बीमारी और गंदगी से दूर रहेंगे तो हर ओर खुशियाँ मुस्कुराएँगी और हमारी मुस्कुराहट को भी बढ़ाएँगी।’’

‘‘बिल्कुल।’’ यह कहकर रीना ने प्राची को गले लगा लिया।