अपना टेलीफोन बनाओ

74 views

बच्चो एक ऐसा टेलीफोन बनाना, जिससे तुम लगभग तीस मीटर की दूरी तक बात कर सकते हो, बड़ा ही आसान है। इसके लिए तुम्हें चाहिए सिर्फ प्लास्टिक के दो मग या कप और लगभग पचास मीटर लंबा व पतला, पर मजबूत धागा। प्रत्येक मग की तली में एक छोटा सा छेद कर लो। उसमें से बाहर की ओर से धागे का एक सिरा घुसा दो और सिरे पर गाँठ लगा दो, जिससे धागा बाहर न निकल सके। इस प्रकार प्रत्येक मग टेलीफोन के रिसीवर और माउथपीस दोनों का काम कर सकता है।

अब तुम एक मग स्वयं पकड़कर दूसरा अपने किसी साथी को दे दो। साथ ही अपने साथी से कहो कि वह इतनी दूर चला जाए, जिससे धागा पूरी तरह तन जाए, ढीला न रहे। धागे के ढीले पड़ जाने से तुम्हारी ध्वनि से उत्पन्न कंपन वायु में चली जाएगी और ध्वनि बहुत धीमी हो जाएगी। धागे के तने रहने से ध्वनि के कंपनों की हानि कम हो जाती है, इसलिए तुम्हारी ध्वनि अधिक दूरी तक और अधिक स्पष्ट तरीके से पहुँच जाती है।

इसके अतिरिक्त, इस टेलीफोन के धागे के बीच में एक और धागा जोड़ देने पर तुम अपने दो साथियों से एक साथ बात कर सकते हो। पर उसके लिए जोडे़ गए धागे के दूसरे सिरे पर भी उसी प्रकार एक मग लगाना होगा, जैसे पहले धागे के सिरे पर लगाए गए थे।

इस प्रकार के टेलीफोन से आपस में बात करने के लिए तुम्हें इस बात का ध्यान रखना होगा कि यदि कोई बच्चा बात कर रहा है, तब दूसरा बच्चा उस समय तक बोलना शुरू न करे, जब तक पहला बच्चा अपनी बात पूरी नहीं कर लेता है। सुननेवाले को यह बताने के लिए कि तुमने अपनी बात पूरी कह ली है, तुम्हें ‘ओवर’ (बात पूरी हुई) कहना चाहिए। यदि अंत में तुम ऐसा नहीं कहते, तब सुननेवाला यह समझता रहेगा कि तुमने बात पूरी नहीं की है।